ग्रोथ के लिए जूझ रहे देश के पैसेंजर वाहन मार्केट में वैन विजेता बनकर उभरी है, जिसने सभी को हैरान कर दिया है। वित्तवर्ष 2019 के दौरान वैन सेगमेंट ने 13 प्रतिशत की सालाना ग्रोथ दर्ज की, जो हैचबैक, सिडैन और यूवी (यूटिलिटी वीइकल) सेगमेंट की ग्रोथ से कहीं ज्यादा है। पूरे वित्तवर्ष के दौरान 2.17 लाख वैन की बिक्री हुई। यह भारतीय मार्केट में पिछले पांच सालों में वैन की सबसे ज्यादा बिक्री है। वित्तवर्ष 2018 के दौरान 1.92 लाख यूनिट बिक्री हुई थी। इस शानदार ग्रोथ की अगुवाई मारुति सुजुकी ने की है।

कंपनी ने ओमॉनी और ईको वैन की 1.79 लाख यूनिट्स की बिक्री की,जो कुल बिक्री का 82 प्रतिशत है। देश की ऑटोमोटिव इंडस्ट्री में किसी भी सब-सेगमेंट में एक ब्रैंड के लिए यह सबसे बड़ा मार्केट शेयर है। महिंद्रा एंड महिंद्रा और टाटा मोटर्स के पास इस सेगमेंट के बाकी के 8 प्रतिशत और 10 प्रतिशत मार्केट शेयर हैं। इन कंपनियों के पास जियो, सुप्रो और वेंचर जैसे ब्रैंड हैं। कम कॉम्पिटीशन और प्रमुख शहरों में पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन के बढ़ते साधन ने ओमनी और ईको को अपनी सेल्स बढ़ाने में मदद की। ओमनी ने वित्तवर्ष 2019 में अपनी सबसे ज्यादा सेल्स दर्ज की,वहीं ईको की सेल्स ग्रोथ 20 प्रतिशत से ज्यादा रही।

ये वैन सीएनजी पर चलती हैं और इनमें 7-8 पैसेंजर बैठ सकते हैं। इसकारण पब्लिक ट्रांसपोर्टेशन में इस्तेमाल पर इनसे प्रति पैसेंजर ज्यादा कमाई का मौका मिल रहा है। मारुति सुजुकी के चेयरमैन आरसी भार्गव ने बताया, ‘पहाड़ों पर सवारियों को ले जाने वाले या श्रद्धालुओं को लेकर धार्मिक स्थल पर ले जाने वाले इसका काफी इस्तेमाल कर रहे हैं,क्योंकि इनमें काफी जगह है। इसके साथ ही,ये किफायती भी हैं।’ दिलचस्प बात यह है कि मारुति ने हाल में ओमनी का प्रॉडक्शन बंद करने का ऐलान किया है। ओमनी को 1984 में लांच किया गया था और उसके बाद से ही वैन सेगमेंट की शुरुआत हुई थी। इस बीच कंपनी ने कहा है कि वह सुरक्षा से जुड़े आगामी नियमों को ध्यान में रखते हुए ईको के नए वर्जन पर काम कर रही है। आईएचएस मार्केट में प्रॉडक्शन फॉरकास्टिंग के कंट्री हेड गौरव वांगल ने कहा कि मारुति ने जिस तरह बदलावों को लागू किया है,वह शानदार है। उन्होंने कहा, मारुति सुजुकी ने पहले अपने मजबूत चैनल के जरिए ईको की ज्यादा से ज्यादा बिक्री पर जोर दिया और ओमनी को ईको के हाथों मार्केट शेयर खोने दिया। ताजा आंकड़े काफी शानदार हैं, लेकिन देखना होगा कि क्या ये आगे भी जारी रह सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here