जीवन की आराधापी के बीच व्यस्त रहने वाले लोग सबसे ज्यादा खुश व संतुष्ट रहते हैं, ऐसा एक वैज्ञानिक शोध से पता चला है। हालांकि खुश रहने के लिए लोग कई तरीके अपनाते हैं। कोई वीकेंड पर घूमने जाता है, कोई चॉकलेट्स खाना पसंद करता है तो कोई अपने पेट्स के साथ समय बिताता है। हर कोई अपनी भाग-दौड़ भरी जिंदगी से ब्रेक लेने की कोशिश करता है। पर अब एक शोध में नई बात सामने आई है जो आपको हैरान कर देगी। इस शोध के मुताबिक एक भाग-दौड़ वाले शहर में रहने वाले लोग ज्यादा खुश रहते हैं।
अक्सर यह कहा जाता है कि मेट्रो सिटीज की बिजी लाइफ तनाव पैदा करती है लेकिन इस शोध के परिणाम बिल्कुल उल्टे हैं। एक व्यक्ति जितना ज्यादा व्यस्त रहता है वह उतना संतुष्ट रहता है। चार्टर्ड मीडिएटर जीनेट बिकनेल का कहना है कि किसी भी समाज में व्यस्त रहना स्वस्थ रहने में काफी मदद करता है। अमेरिका की स्टडीज में सबसे खुश लोगों ने बताया कि वे ज्यादातर समय व्यस्त रहते हैं। उनके पास ज्यादा खाली वक्त नहीं होता है लेकिन किसी काम के लिए वे भागते भी नहीं रहते हैं। रिसर्चर्स की एक टीम ने 31 अलग-अलग देशों के कई बड़े शहरों में पड़ताल की। इस शोध में व्यक्ति के व्यस्त दिनचर्या और उसके खुश रहने के स्तर में एक पॉजिटिव रिलेशन सामने आया। कोई व्यक्ति कितना खुश रहता है यह इस बात पर निर्भर करता है कि वह अपना समय कैसे बिताता है न कि इस बात पर कि वह कितने पैसे कमाता है। इसी तरह ब्रिटेन में की गई एक रिसर्च में पता चला था कि जो लोग ज्यादा भीड़भाड़ वाले शहरों में रहते हैं वे उन लोगों से ज्यादा खुश रहते हैं जो किसी शांत जगह पर रहते हैं। इसके बावजूद कि बड़े शहरों में रहने के कुछ नुकसान हैं जैसे कि आपको यहां स्मोकिंग की लत लग सकती है या फिर आप किसी दिल की बीमारी का शिकार हो सकते हैं, यह भी सच है कि इन शहरों में रहना आपकी बेचैनी और तनाव के कम करता है। आप अपने जरूरी कामों में व्यस्त होते हैं या फिर खाली समय में भी अपने शौक का कोई काम कर रहे होते हैं इसलिए यहां आपका मन बेचैन नहीं होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here